मोदी सरकार में क्या GDP कम हो रही है यहाँ जाने Full Detail

क्या मोदी  सरकार  मे GDP  Rate of india कम हो रहा हैं।

सबसे पहले में ये बताना चाहता हूँ की हम बात कर रहे है सिर्फ (जी डी पी) की । (GDp and GDp growth rate are different)

सबसे पहले G D P (जी डी पी) होती क्या है ।?
GDP का मतलब हुआ (Gross domestic product )
अब ये कैसे निकलते है किसी देश की G D P उसके लिए आपको एक फार्मूला समजना होगा।

                   How to calculate GDp?

How-to-calculate-gdp

               G D P = C+I+G+NX

इस फॉर्मूले से निकलती है जी डी पी अये जानते है कैसे
C = आम आदमी कितना पैसा कमाते है कितने ख़र्च करते है
I= देश मे कितना इन्वेस्टमेंट हो रहा है ये देख जाता है।
G=गवर्नमेंट कितना पैसा ख़र्च कर रही है।
NX= एक्सपोर्ट माइनस इम्पोर्ट (मतलब की हम क्या खरिद रहे है बाकी देश से और हम कितना समान बेच रहे है ।)
इन सब को ऐड करगे तो हमे (जी डी पी) मिल जाये गई।
अगर आपको फार्मूला  समझ आगेया तो ठीक है।

अगर जी डी पी काम है तोह इसका ये मतलब नही की देश की अर्थव्यवस्था खराब है या खराब हो रही है?

E. g 1. U s GDP 3.1%
2. Japan GDP 1%

इन देश की जी डी पी काम है इसका ये मतकब नही की इनकी अर्थव्यवस्था खराब है । आपको पता है होगा इन देशों के बारे में।
जी डी पी के साथ साथ हमे एक और चीज़ और वो है इन्फ्लेशन।
हमेशा इन्फ्लेशन से 1.5% ज़्यादा होनी चईये जी डी पी।
मतलब की अगर इन्फ्लेशन से ज़्यादा है जी डी पी तोह आप कह सकते है अर्थव्यवस्था अच्छी है।
लेकिन अगर मंगई ज़्यादा है और जी डी पी काम तोह तोह समाज लो बुरे दिन यह गए है।

चलिए अब देखते है कौनसी सरकार मे कितनी जी डी पी और कितना रहा इन्फ्लेशन ? यू पी ए 1 & यू पी ए 2 शरू करते हैं।

क्या मोदी सरकार में देश की GDP काम हुई है.jpg

यू पी ए 1
Year        inflation      GDP     Status
2004        3.78%          6.2%       अच्छा
2007        5.51%           9%          अच्छा
यह तक सब ठीक है।
2008        9.70%          7.4%          बुरा
2010        9.47%           10.4%       बुरा
U P A 2
2012        11.7%           6.5%         बुरा
2013          9.3%            3.2%         बुराWhat is GDp kya hai GDp full detail GDp formula.jpg

अब 2008 से ऐसा क्या हुआ की मॅहगाई बढ़ती गई और अर्थव्यवस्था काम होती गई।

2008 में पूरी दूनी में मंदी चल रही थी सारे देश अपने अपने देश मे इन्वेस्टमेंट कर रहे थे और इसका दुष्परिणाम हमे भी जैलन पढ़ा और जो कसर रह गयी थी वो कांग्रेस ने गोटाले करके सब्सिडी दे ककर पूरी कर डाली और इसके प्रभाव से हमारी अर्थव्यवस्था लगातार काम होती गई और मॅहगाई बढ़ती गई। कांग्रेस देश को नही बल्कि अपने इलेक्शन को देख रही थी जो 2009 में होने थे।
उसी समय कच्चे तेल की कीमित बढ़ती गयी कचे तेल की किमिते ($120-$140) डॉलर तक चली गयी ।
कांग्रेस ने मंगाई काम करने के लिए सिर्फ सब्सिडी देती रहीं।(LPG,Kerosene,Petrol,Diesel,) और फ़ डी ई अना भी बंद हो गयी और कांग्रेस ने सेन्टर एम्प्लाइज की सैलरी भी बड़ा दी ये सब इन्होंने 2009 के इलेक्शन को देखते हुए क्या । इसका प्रभाव ये हुआ कि सरकार को कर्ज लेना पड़ा सैलरी के लिए तेल के लिए और उसी समय इन्होंने मग्नरेगा भी शरू क्या जिसमे सबसे ज़्यादा कोरोपुशन होता था और गोटाले पे गोटाले करके महंगाई बहौत ज़्यादा हो गयी और अर्थव्यवस्था कमजोर हो गयी।

          अब मोदी सरकार आने के बाद क्या हुआ?

मोदी सरकार आते है कचे तेल की कीमतें भी कम हो गयी।
कचे तेल की कीमतें तोह काम हुई लेकिन उसका फायदा मोदी सरकार ने जनता को नही दिया । अब वो क्यों नही दिया ?
वो इसलिए क्यों कि जो कांग्रेस ने तेल का कर्ज छोड़ कर गयी थी उसको ब चुकाना था । बहौत सारी देश हमे तेल देने से मनह कर रहे थे क्यों कि सरकार ने उनका पैसा देना था जो कांग्रेस के टाइम का था।
मोदी सरकार ने आते ही एक्सई ड्यूटी तैल पर बढ़ दी और पैसे को इंफ्रास्ट्रक्चर डेवेलोप करने में लगा दिया और जो ब सब्सिडी कांग्रेस दे रही थी (lpg, petrol, diesel,etc)  वो इन्होंने उन देशों को देना शरू क्या जिन से हमने पहले कर्ज़ लिया था कांग्रेस के समय।
उसके बाद फ़ डी ई आना फिर से शरू हुई और हमारी अर्थव्यवस्था तेज़ी से आगे बढ़ने लगी और हमने चीन को बी पीछे छोड़ दिया।
जो पुराने काम अटके पढ़े थे उनको फ़ास्ट ट्रैक पर डाल जिससे वो काम जल्दी से पूरे हो।

अब बात करते है मोदी सरकार आने के बाद क्या रही हमारी जी डी पी?

             
India's-GDP-under-modi-government

Year             Inflation            GDp               status 
2015             6.3%                    8%                 अच्छा 
2016             2.3%                   7.1%               अच्छा
2017             3.2%                     5.7%             अच्छा

अब सवाल ये है कि 2015 और 2016 में इन्फ्लेशन और अर्थव्यवस्था अच्छी है फिर 2017 में क्या हुआ।
तोह इसका उतर है नोटबंदी और ज एस टी?
 नोटबंदी और ज एस टी से कैसे आये समजते है।
GDp breakup in parts.jpg


इस इमेज में जो सेक्टर लिखे है समजो उस से जी डी पी बनती है?
Services = 57%
Agriculture = 18%
Industry  = 24.7% 
इन तीन सेक्टर का रोल बहौत बढ़ा है जी डी पी में 
Agriculture और industry का लेन देन कैश से होता है इसको नोटबंदी और ज एस टी ने कुछ समय के लिए बंद कर दिया है
27%  contribution of gdp in real state। ये तोह बिल्कुल है बंद कर दिया है नोटबन्दी ने।
मानसून का भी थोड़ा योगदान है इसमें जीडीपी को कम करने में।
इंब सब की वजह से आज जी डी पी थोड़ी कम है पिछले साल से।
लेकिन अगर आप इन्फ्लेशन को देखे तोह वो ब काम हैं।
अब आप सोच रहे होंगे कि मंगई तोह बहौत है अबी ( पेट्रोल डीज़ल) तोह 70 रुपए का है लेकिन जब भी मंगाई का % निकलते है तोह पूरे देश का प्रोडक्ट का एवरेज निकलता है उस से इन्फ्लेशन या मंगाई की % निकलती है।
मंगाई को पेट्रोल और डीजल से न जोड़े।

Conclusion

आज जो जीडीपी है देश की वो कम है लेकिन वो सिर्फ नोटबन्दी और gst की वजह से और आज ब अगर बात करे मंगई की तो वो भी जीडीपी से कम ही ।
आने वाले समय मे जीडीपी 7% से ज़्यादा होगी ।

0 comments: