What is Article 35 A Full Detail In Hindi

Article 35 A  क्या है आज इस पर बात करते है।
धारा 35A तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ Rajinder प्रसाद ने लागू किया था तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के कहने पर नेहरू ये सोचते थे की धारा 35 A को लागू करने से वो जम्मू कश्मीर के लोगों का दिल जीत सकते है। उनके है कहने पर 14 मई 1954 को तत्कालीन राष्ट्रपति दुआरा एक अनुछेद भारतीय संविधान में जोड़ा गया Article 35 A  उसके बाद ये जम्मू कश्मीर में लागू हो गया था।
धारा-370-क्या-है
Polticsguru.com


Article 35A /धारा 35A है क्या?

ARTICLE 35 A के मतुबिक जम्मू कश्मीर का नागरिक तभी राज्य का हिसा माना जाएगा जब वो वही पैदा हुआ हो। 
कोई भी दूसरा नागरिक जम्मू कश्मीर में न तो सम्पति खरीद सकता है और ना ही वहा का स्थानीय नागरिक बन कर रह सकता है।
जम्मू कश्मीर का संविधान 1956 में बना था।
जम्मू कश्मीर के संविधान में कहा गया है की जो 14 मई 1954 को जम्मू कश्मीर में रह रहा हो या उसके 10 साल पहले से जम्मू कश्मीर में रह रहा है और अगर सम्पति भी है तो वो जम्मू कश्मीर का नागरिक है।
मतलब ये है की जो भी लोग 1954 में जम्मू में रहते है या उस से पहले 10 साल से रह रहे है और सम्पति भी है  वो ही जम्मू कश्मीर के नागरिक है।
धारा 35 A में मतुबिक़ अगर जम्मू कश्मीर की लड़की किसी दूसरे राज्य के लड़के से शादी कर लेती है तो लड़की की नागरिकता खत्म हो जाये गी।
लेकिन अगर वो ही लड़की पाकिस्तान के लड़के से शादी कर लेती है तो उसकी नागरिकता खत्म नही होगी वो लडक़ी जम्मू कश्मीर की नागरिक बानी रहे गी।
जम्मू कश्मीर का गैर स्थानीय नागरिक लोकसभा में वोट दे सकता है लेकिन राज्य के पंचायत में वोट नही दे सकता है।
धारा 35A धारा 370 का है एक हिस्सा है।
ये थी धारा 35A अगर आपको समाज नहीं आया तो एक उदारण देता हूँ इस से समाज आजायेगा।
जैसे आप दिल्ली में रहते हों और आपकी पोस्टिंग/ट्रांसफर/या अब आप मुंबई में रहना चाहते हों तो आप मुंबई में रह सकते हों वहा ज़मीन खरीद सकते हो घर खरीद सकते हो वह जॉब कर सकते हो । ये सब अब जम्मू कश्मीर में नही कर सकते न ही घर ले सकते हो न जॉब न ज़मीन etc
धारा 35 A पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है ।
FInal Words
उम्मीद है आप धारा 35 A को अच्छे से समाज गए होंगे।
Article 35A अबी भी सुप्रीम कोर्ट  में है सुप्रीम कोर्ट में आज होने वाली सुनवाई टल गई है। सुप्रीम कोर्ट ने 2 महीने तक अनुच्छेद 35A पर होने वाली सुनवाई को टाल दी है। केंंद्र सरकार ने 8 हफ्ते का समय मंगा है कोर्ट से। इसपर सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर सरकार से जवाब मांगा था और साथ ही केंद्र सरकार से भी। 
जम्मू कश्मीर की सरकार चाहती है की 35A बना रहे।
इसपर एक तर्क ये भी दिया जा रहा है की ये संसद से पारित नहीं हुआ है इसको राष्ट्रपति दुआरा लागू किया गया है।

                                धन्यवाद।

Gujrat And Himachal Latest opinion poll 2017 हिंदी

Gujrat Election Update 2017

Himachal-gujrat-opinion-poll-2017

 चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है गुजरात में चुनाव दो चरणों मे होगा पहले चरण में 9 दिसंबर को मतदान होगा और दूसरे चरण में 14 दिसंबर को मतदान होगा गुजरात में  मतगणना 18 दिसंबर को होगी यानी हिमाचल के साथ गुजरात की भी मतगणना 18 दिसंबर 2017 को होगी। गुजरात मे चुनाव की 
तारीखों से पहले ही चुनावी प्रचार अपने चरम सीमा पर है।
ये चुनाव प्रधानमंत्री मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि GST और नोटबन्दी के बाद ये पहला चुनाव हैअगर पार्टी दोनों राज्यों में अच्छा प्रदर्शन करती है तो ये एक अच्छा संदेश होगा पार्टी के लिए।
( Modi सरकार ने क्या किया तीन साल में )

आज हम आपके लिए एक साथ गुजरात और हिमाचल का ओपिनियन पोल लेकर आए हैं। 

  • टाइम्स Now Vmr सर्वे
  • आजतक एक्सिस my india
सबसे पहले बात करते है हिमाचल प्रदेश के ओपिनियन पोल की ये आजतक axis मय इंडिया का पोल है

Himachal Pardesh Opinion poll 2017

 Party                Seats      

  1. Bjp               43-47   
  2. कांग्रेस           21-25
  3. Others         0-2
हिमाचल के ओपिनियन पोल में भाजपा अकेले ही सरकार बनाती दिख रही है अगर ऐसा ही रिजल्ट मतगणना के दिन आए तो। हिमाचल में अभी कांग्रेस की सरकार है । लेकिन कांग्रेस 21-25 सीटों में सिमटती दिख रही है ।सरकार बनाने के लिए 35 सीटे की जरूरत होती है हिमाचल में जो भजपा अकेले है बना पा रही है इस पोल की माने तो। 
खेर ये सिर्फ एक पोल है असली रिजल्ट तो मतगणना के दिन है आए गा।
अब बात करते है गुजरात ओपिनियन पोल की

Gujrat Latest ओपिनियन पोल 2017

सबसे पहले बात करते है टाइम्स now के ओपिनियन पोल की इस पोल में सैंपल साइज है 6,000 मतलब की 6,000 लोगों से उनकी राय ली गयी है इस ओपिनियन पोल में और ये सबी 182 सीटे में ली गई राय है।
   Party           seats          vote%
  1. Bjp            118-134         52%
  2. Congress   49-61            37%
  3. Others         6
( चीन के सामान को No)
टाइम्स now के सर्वे भजपा के लिए ख़ुशया लेकर आया है टाइम्स now के पोल में bjp फिर से अपनी सरकार बनाने जा रही है गुजरात मे । वही कांग्रेस के लिए फिर से निराशा ही हाथ लग सकती है। अगर ओपिनियन पोल की माने तो। कांग्रेस को सिर्फ 49-61 सिट मिलने का अनुमान है । हार्दिक पटेल को कांग्रेस लुभाने की जीतोड़ कोशिश कर रही है लेकिन उस से भी कुछ ज़्यादा हासिल नही होने वाला है। कांग्रेस का वोट % सिर्फ़ 37% है अगर पटेल का भी इसमें जोड़ दिया जाए तो ये होता है 39% तो भी कांग्रेस का ये है हाल होगा।
81% लोगों ने बोला की वो bjp हो फिर से वोट करेगे।
अगर ये है नितजे रहे तो भाजपा के लिए एक सुखद खबर होगी और 2012 के चुनाव से 4% अधिक वोट होंगे।
2012 में भाजपा को 48% वोट पड़े थे।

अब बात करते है आजतक के ओपिनियन पोल की

Aajak ओपिनियन पोल एक्सिस my इंडिया 2017

  Party                  seats         वोट%
  1. Bjp                  115-125        48%
  2. Congress         57-65           38%
आजतक के ओपिनियन पोल की बात करे तो ये भी सबी गुजरात की 182 सीटों पर किया गया है और सैंपल साइज है 18243 जो की काफी बड़ा सैंपल है ये पोल 15 सिंतबर से 15 अक्टूबर के बीच मे किया गया ही ।
इस पोल में भी भजपा गुजरात में फिर से सरकार बनाती दिख रही है मतलब साफ है की फिर से भगवा राज आने वाला है गुजरात मे।
कांग्रेस के लिए मुश्किल गड़ी है इस पोल में भी कांग्रेस 61 सीट पर सिमटती दिख रही है।

Final Words
अगर बात करे दोने राज्यों की तो दोनों राज्यों में BJP की सरकार बनती दिख रही है अगर ये ही आंकड़े 18 दिसंबर को हकीकत बन जाए तो।
वैसे ये सिर्फ एक ओपिनियन पोल है लेकिन कांग्रेस के लिए इसमें कुछ भी अच्छा होता नही दिख रहा है भाजपा के लिए एक अच्छा संदेस है। अगर दोनों राज्यों में ये ही नितजे आए तो भाजपा के लिए एक संदेश ये भी होगी की नोटबन्दी और gst के लागु होने के बाद ये पहले चुनाव है। 
अगर दोनों राज्यों में भाजपा सरकार बनाती है तो gst और नोटबंदी में लोग सरकार के साथ खड़े होते दिखेगे। जो की भजपा के लिए एक सुखद खबर होगी।
अंत मे ये सिर्फ एक ओपिनियन पोल है असली रिजल्ट 18 दिसंबर 2017 को ही आए गा। कई बार देखा गया है की ओपिनियन पोल गलत भी हो सकते है ये सिर्फ कुछ लोगों की राय पर निर्भर होता है।
                     धन्यवाद।

मोदी ने क्या किया 3 साल मे (2014-2017) Modi Govt Achievements

आज हम बात करने वाले है एक सवाल पर जो अक्सर पूछा जाता है social network, Fb,twitter, whatsapp, etc यहां तक की tv, newspaper पर आखिर मोदी ने किया ही क्या ?
तीन साल में ये सवाल आपसे भी किसी ने पूछा होगा या अपने किसी से पूछा होगा । आज हम इस पर ही बात करने वाले है।

 Modi Govt Achievements मोदी सरकार की 3 साल की उपलब्धियां


What-modi-did-so-far-in-3-years-modi-govt-achivements.jpg
Polticsguru. Com

आज हम बात करेगे Modi Sarkar ने क्या किया पिछले तीन साल में हालांकि मोदी सरकार को सत्ता समले हुए तीन साल से ज़्यादा का समय हो गया है। Modi Sarkar की  3 साल की उपलब्धियां
इस पोस्ट में जो भी डेटा है वो
Govt websites, wikipedia, google,youtube, newspaper,etc से लिया गया है हवा में बाते नहीं की गई है आप खुद से चेक कर सकते है।
तो चलिए शरू करते है।

           ( चीन के सामान को No )

  • Magic Of Aadhar आधार को लिंक करना।
  1. एलपीजी को आधार कार्ड से लिंक करके 3.5 करोड़ से ज़्यादा फेक एलपीजी कनेक्शन वाले बाहर हो गए।
  2. MGNAREGA में जॉब कार्ड को आधार से लिंक करके 1.6 करोड़ फेक जॉब कार्ड होल्डर बाहर। MGNAREGA वो ही है जिसमे सबसे ज़्यादा करप्शन होता था।
  3. MGNarega में जॉब कार्ड को लिंक करके हर साल 2,66,000 करोड़ की बचत होगी।
  4. मिड-डे मील में आधार ने लगबग 4.4 लाख फेक बच्चों को बाहर किया ये सिर्फ तीन राज्यों का डेटा है। 
  5. अब govt ने किसान को भी आधार से लिंक करना शरू कर दिया है जो किसान है उनको सब्सिडी मिलेगी बाकी फेक किसान बाहर होंगे। कुछ लोग खुद को किसान बोलते है सब्सिडी वाला यूरिया, खाद,etc ले कर बाजार में बेच दते थे ये बंद होगा अब।
  6. किसानों के लिए govt अब नया यूरिया लेकर आ रही है जिसमे नीम की कोटिंग की होगा और काफी सस्ता भी होगा।

  • Power Saving LED
  1. 2014 में एक Led bulb की कीमत ₹500 थी और सिर्फ 7 लाख बल्ब ही थे देश मे ।
  2. मोदी ने पहले साल ही 5 करोड़ LED बल्ब का आर्डर दिया उस से हुआ क्या की दुनिया मे जितनी भी led बनाने वाली कंपनियां थी वो भारत आयी और 90% कीमतें led बल्ब की कम हुई। जो led बल्ब ₹500 का था आज वो है बल्ब ₹50 से 70 में मिल रहा है।
  3. आज तक 20 करोड़ से ज़्यादा led बल्ब बेचे जा चुके हैं जिसे 12,000 करोड़ की बचत हो रही है बिजली के बिल में।
  4. मोदी सरकार का लक्ष्य है 70 करोड़ से ज़्यादा led बल्ब बेचने का 2019 तक जिसे लगबग 40,000 करोड़ से ज़्यादा की बचत हो सकेगी।
  5. Led बल्ब (ujala) का असर था की हमने काफी ज्यादा संख्या में led बल्ब export भी किये । uk etc में

  • Coal shortage इन 2013-2014
  1. 2013-2014 में एक न्यूज daily tv पर आती थी बिजली कंपनियों के पास सिर्फ 4 दिन या 5 दिन का कोयला बचा हुआ है कोयले की कमी पूरी नही हुई तो छा सकता है देश मे अंधेरा।
  2. ये कमी भी मोदी सरकार आने के बाद खत्म हुई है अब बिजली कंपनियों के पास 30 दिन से भी ज़्यादा का कोयला पड़ा हुआ है।
  • Year                           Mn Tones
  1. 2011                          3.1 mn tones
  2. 2012                          2.3 mn tones
  3. 2013                          19.9 mn tones
  4. 2014                          6.7 mn tones
  5. 2015                          34.9 mn tones
  6. 2016                          42.4 mn tones
  • ये आप देख सकते है 2013-14 के बाद 2015-16 में पहले से दुगना कोयला है 
  • ऑक्शन ने भी ट्रांसपरेंसी लायी है।

  • रेलवे कैपेक्स

Railway-investment-in-modi-govt-polticsguru.jpg
Polticsguru.Com
  1. रेलवे में कितना इन्वेस्टमेंट हुआ है ये आप देख सकते है ऊपर पिक्चर में।
  2. पहले 100 मीटर से 150 mtr नया ट्रैक बनता था अब 1.5 से 2 km बनता है।
  3. पहले मालगाडी की एवरेज स्पीड 25 kmph थी अब मालगाड़ी की स्पीड 75kmph तक है।
  4. पहले एक ही ट्रैक पर पैसेंजर ट्रेन और मालगाड़ी चलती थी अब माल गाड़ी का अलग ट्रैक बन रहा है। जिससे पैसेंजर ट्रेन भी समय पर चल पाएगी।

  • डिफेंस

  1. मनहोर पर्रिकर ने ₹49,300 करोड़ बचाये है जो कांग्रेस अमेरिका में भूल आयी थी। पर्रिकर ने पुराने डाक्यूमेंट्स चेक करते हुए ये देख की कांग्रेस ₹ 49,300 करोड़ अमेरिका में भूल आयी है वो वापिस लाये।
  2. रफाल डील में भी मोदी का बहौत बड़ा योगदान था जो काफी समय से लटका पड़ा था कांग्रेस के टाइम से रफल डील अटकी पड़ी थी।
  3. मेक इन इंडिया से भी डिफेंस को बहौत फायदा हुआ है ।
  4. बुलेट प्रूफ जैकेट्स भारत में ही बन के जवानों तक जा रही है।
  5. अधुनिक हत्यार भारत मे बन रहे है।
  6. Orop को कैसे भूल सकते है।

  • नोटबन्दी &जी एस टी
  1. नोटबन्दी के बाद 9.1 नये टैक्स पएर देश को मिले । जो पहले बहौत काम थे।
  2. नोटबन्दी का जो काम था सिस्टम में ट्रांसपरेंसी (liquidity) लाना था जो नोटबन्दी ने बहुत अच्छे से क्या है।
  3. नोटबन्दी से ही कश्मीर में आतंकवादियों को atm लूटने पर मजबूर किया।
  4. जो फेक करेंसी पाकिस्तन से आती थी उसपर लगाम लग गयी।
  5. जी एस टी से नए 10 लाख टैक्स पेयर्स मिले है।
  6. Fdi में हम फिर से चीन से आगे है सबसे ज़्यादा इन्वेस्ट विदेश से भारत मे हो रहा है।

  • पेट्रोल &डीजल Price
  1. सबसे ज़्यादा पूछा जाने वाला सवाल पेट्रोल और डीजल की कीमतें क्यों कम नहीं हो रहीं।
  2. सबसे पहला जो कारण है वो है कांग्रेस के टाइम में जो आपको सब्सिडी मिलती थी पेट्रोल डीजल पर वो मोदी ने खत्म कर दी।
  3. दूसरा जो कारण है वो है कोंग्रेस ने जाते जाते बहौत सारा कर्ज़ छोड़ गई थी कचे तैल का जो भी कच्चा तेल वो खरीद ते थे उसका पैसा कांग्रेस ने नही चुकाया।
  4. जब मोदी सरकार बनी तो उन देशों ने कच्चा तेल देने से इनकार कर दिया। वो बोल रहे थे पहले हमारा पैसा दो फिर तैल लो।
  5. इसके कारण भी तैल की कीमतें काम नही हो हुई। मोदी ने तैल पर एक्साइज ड्यूटी बड़ा दी और वो पैसे चुकाने के लिए और डेवेलपमेंट के कामों में इस्तेमाल किए।
  6. तेल पर gst नही लगता अबी क्यों की कुछ राज्य नही मान रहे इसकेलिए जैसे है तेल gst में आएगा पेट्रोल डीज़ल की कीमतें कम होने लगे गी।

  • FInal Words Modi Achievements मोदी सरकार अब तक की उपलब्धियां 2017

आज हमने बात की मोदी सरकार ने क्या किया तीन साल मे।
अब हमने ये देखना है की हमनें क्या चाहिए क्या हमें सिर्फ सस्ता पेट्रोल और डीज़ल चाहिए?
या फिर डेवलोपमेन्ट के काम जैसे स्मार्ट सिटीज, मेट्रो,बुलेट ट्रेन, etc
अगर पेट्रोल डीजल है चाहिए तो डेवेलपमेंट कहा से होगी?
मोदी ने जो सब्सिडी थी उसको लगबग खत्म कर दिया है ये बिल्कुल ठीक किया हमारा और आपका टैक्स का पैसा सब्सिडी के लिए नही है देश को अधुनिक बनाने के लिए इस्तेमाल होने चाहिए।
मोदी ने जो सब्सिडी ख़त्म की और पेट्रोल डीज़ल की कीमतों में कमी नहीं की उस से देश को क्या फायदा हुआ।
  • No of village बिना बिजली के
  1. 2014      18452
  2. 2017       3927
  • New एलपीजी कनेक्शन
  1. 2004 -2014           5.3करोड़
  2. 2014-17                 6.5 करोड़
  • इलेक्ट्रॉनिक मैनुफैक्चरिंग इन इंडिया
  1. 2014          11,198 करोड़
  2. 2017           1,43,000 करोड़
  • सोलर power
  1. 2014          2,621 mw
  2. 2017          12,277 mw
  • Optical फाइबर नेटवर्क
  1. 2013-14                  358km
  2. 2017                        2,05,404km
  • Rural road
  1. 2011-14             81,095 km
  2. 2014-17              1,20,233km
  • FDI
  1. 2014         $24.2 मिलियन USD
  2. 2017          $56.3 million USD
( Article 370 of इंडियन consitution धारा 370 क्या है।)

आज के लिए बस इतना ही अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर करें ।
                     धन्यवाद।


चीन के सामान को No Say No to chines Products Hindi

Diwali Information Say No To China

आज हम बात करने वाले हैं दिवाली की जो की कल है 19 october 2017 को सबसे पहले PolticsGuru.Com की तरफ से आप सब को दीपावली की शुभकामनाएं। दिवाली मनाओ अच्छे से और दीपावली के अगले दिन जो कचरा हुआ होगा कृपया उसे भी साफ कर ले हुम् दिवाली के दिन खूब पटाखे जलाते है लेकिन अगले दिन जो कचरा पड़ा हुआ हो उसको साफ भी कर ले क्योंकि हमने दीपावली भी मनानी है और अपने आस पास भी सफाई रखनी है एक बार फिर से हमारी तरफ से दिवाली की ढेर सारी शुभकामनाएं।
Diwali-information2017-say-no-to-chines-products.jpg
PolticsGuru.Com

आज हम बात करने वाले है चीन के सामान की क्योंकि चीन भारत के घर घर मे घुस गया है हम सब लोग चीन का सामान इस्तमाल कर रहे है और अपने देश के सामान को इसलिए नही लेते क्योंकि हमारे देश का सामान हमे महंगा लगता है। चीन के सामान की कोई गौरेन्टी नही होती कोई वररंटी नही होती फिर भी हमें चीन के सामान को हे लेते है। क्यों? क्योंकि चीन का सामान सस्ता हैं । आज में आपको कुछ उदहारण दु गा जिसके बाद आप शायद ही चीन के सामान को ले गे।
इस पोस्ट में जो जानकारी हम आपको दे रहे है वो शायद ही आपको पता हो और ये पोस्ट पढ़ कर आप शायद है चीन का सामान दुबारा कभी ले। कृपया पोस्ट को पूरा पढ़े और अगर पोस्ट अच्छी लगे तो शेअर जरूर करें।

( क्या मोदी सरकार में देश की GDP काम हुई है।)

DIwali Information Say No To China

क्या आप जानते है की भारत मे कितना सामान हर साल चीन से आता है।?
कितना सामान भारत चीन को बेचता है?
नहीं जानते होंगे आप चलिए हम आपको बताते है।
  1. चीन हर साल भारत मे ₹ =100 Billion से भी ज़्यादा का सामान बेचता है। या यूं कह लिजेए की हम हर साल ₹=100 बिलियन से भी ज़्यादा का सामान हुम् चीन से खरीदते है।
  2. भारत कितना सामान चीन को बेचता है ₹=5 Billion से भी कम।
  • चीन से भारत क्या सामान खरीदता है।
  1. Machinery
  2. Organic chemicals
  3. Iron and stell
  4. Electronic Goods
  5. Textile yern Fabric
  6. Transportation Equipments etc...
  • मतलब की 95% का ट्रेड डेफिसिट इसका मतलब ये हुआ की हम सब कुछ चीन से लेने को तैयार हो गये है।
चीन अपने वहाँ किसी को गुसने नही देते और पूरी दुनियाा में  गुसने के प्रयास कर रहा है भारत मे तोह पहले ही घुस गया हैं।
क्या आप जानते है? चीन अपने देश मे किसी को गुसने नहीं देता कैसे चीन पूरी दुनिया से अलग है। अब जो आप नीचे पढ़ने वाले है उस से आपकी बुद्धि चकरा सकती है कृपया धयान से पढ़े  और सोचे।
( भारतीय रेलवे कितना पैसा कमाता है और कितना खर्च करता है।)

      World                                     China
  1. Chrome                             चीन अपना UC Browser
  2. Search Engine गूगल           चीन अपना Baidu 
  3. Whatsapp                           चीन अपना We chat
  4. Amazone etc                      चीन अपना   Alibaba
  5. Gmail                                    चीन अपना Q Q 
  6. Facebook                              चीन अपना Ren Ren
  7. Twitter                                  चीन अपना  Vibo
  8. Youtube                                चीन अपना YuKu
  • आप और में क्या इस्तमाल करते है वो मुझे भी पता है और आपको भी पूरी दुनिया chrome का इस्तेमाल करती है चीन अपना uc browser ही।
  • आप और में google में search करते है और चीन baidu का इस्तेमाल करता है।
  • आप और में whatsapp और चीन अपना wechat इस्तमाल करता है।
  • हम सब shopping के लिए amazone का इस्तेमाल करते है लेकिन चीन अपना alibaba का इस्तेमाल करता है।
  • Gmail पूरी दुनिया इस्तेमाल करती है लेकिन चीन Q Q use करता है।
  • फेसबुक सारी दुनिया इस्तमाल करती है ज़ुकरबर्ग ने जीतोड़ कोशिश की चीन में गुसने की क्योंकि चीन की पापुलेशन दुनिया मे सबसे ज़्यादा थी लेकिन चीन ने घुसने नही दिया फेसबुक को।
  • आप youtube देखो न वो तोह युकु चलते है।
  • आप twitter चलाओ वो तो vibo चलायेंगे।
चीन के लोग (facebook, youtube, gmail,twitter,chrome, amazone, etc) का यूज़ 
इसलिए नही करते है क्योंकि वो लोग सिर्फ अपने देश की चीजें यूज़ करते है अगर चीन कर सकता है तोह हम क्यों नहीं। बात जब देश की आती है तोह चीन के लोग अपने देश के साथ खड़े होते है।
ये सब पढ़ के अब आपको ये decide करना है की आप अपने देश के साथ खड़े है या फिर चीन के साथ।अगर चीन कर सकता है तोह हम क्यों नहीं अगर पाकिस्तान ₹300 किलो टमाटर खरीद सकता है लेकिन भारत से टमाटर नही ले गा तो हम क्यों नही कर सकते। आज सोचने वाला दिन है आप देश के लिए क्या करेंगे ये अब आपको decide करना है।

( हिमाचल के चुनाव में होगा VVPAT का इस्तमाल जनये क्या है VVpat)

Final Words

तो आज की पोस्ट में हमने ये जाना की जब बात देश की आती है तो चीन के लोग अपने देश के साथ खड़े होते है अपने देश के प्रोड्क्टक्ट यूज़ करते है। अपने देश की हर एक चीजें है यूज़ करते है। क्या हम चीन से कुछ सीख सकते है।
जैसे है दिवाली या कोई बड़ा तैहोर आता है सब कैम्पिंग चलते है चीन से कोई सामान नही ले गे लेकिन जैसे है तैहोर खत्म होता है सब भूल जाते है।
अगर हम अपने देश का सामान ख़रीदगे तो फायदा सब का होगा।
अब आप सोच रहे होगे अगर चीन के सामान को भारत सरकार ban कर दे तो कोई खरीद नहीं सकता तो ये बहौत मुश्किल हैं क्योंकि ये WTO के खिलाफ होगा जो की भारत नहीं कर सकता।
भारत सरकार नहीं कर सकती लेकिन आप कर सकते हैं।
अब आप decide करे की आपको ये पोस्ट पढ़ के भी चीन का सामान लेने है या नही।

(सुप्रीम कोर्ट को प्रदूषण सिर्फ दिवाली पर ही क्यों याद आता है।)


अगर आपको ये Article अच्छा लगा तो शेयर करे।
                       धन्यवाद।

हिमाचल इलेक्शन Updates हिंदी Ec Announces polls for himachal VVpat

Ec Announces Election dates for Himachal

Ec-announce-election-dates-for-himachal-what-is-vvpat-hindi

( सुप्रीम कोर्ट को दिवाली का प्रदूषण ही क्यों दिखता हैं )

हिमाचल में इलेक्शन का बिगुल फुख दिया गया है EC ने हिमाचल की तारीख का ऐलान कर दिया हैं Himachal Pardesh में 
Voting 9 नवंबर को होगी और वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होंगी। इस बार vv pat का इस्तेमाल होगा हिमाचल इलेक्शन में । 
पिछले कुछ इलेक्शन में poltical parties की शिकायत थी की लोग उन की पार्टी को वोट करते हैं लेकिन evm में गड़बड़ी होती है और वोट किसी और पार्टी को चले जाते हैं। up election में भी मायावती ने खुल कर कहा था की लोगों ने उनकी पार्टी को वोट केए है लेकिन किसी और को चले जाते हैं  वोट।
इसी तरह punjab election में केजरिवाल ने ये आरोप लगाया था की उनको भी पंजाब में लोग ने वोट केए लेकिन गिनती में उन्हें कम वोट मिले थे।
इस पर election commission ने खुली चुनोती दी थी की कोई भी एवम को hack करके दिखाए तोह केजरीवल और मायावती ने इलेक्शन कमिंशन की चुनोती स्वकीर नही की थी।

क्या है VVpat evm में कैसे इस्तमाल होगा?


वोटर वेरीफ़ाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल यानी वीवीपैट ( Voter-Verified Paper Audit Trail)(वीवीपीएट) 
ये vvpat evm मशीन के साथ ही जुड़ा होगा।
जब भी कोई वोटर अपना वोट डाले गा तोह vvpat से एक पर्ची कागज़ की vvapt से बाहर निकलेगी जिसमे अपने किस पार्टी को वोट डाला है उस उमीदवार का नाम चुनाव चीन होगा।यह व्यवस्था इसलिए है कि किसी तरह का विवाद होने पर ईवीएम में पड़े वोट के साथ पर्ची को चेक किया जा सके।
बीते दिनों पाच राज्यों के विधानसभा चुनावों में 50,000 वीवीपैट का इस्तेमाल किया गया था।

Election Results of Himachal Pradesh


हिमाचल के election की एक खासियत हैं वहा के लोग हमेशा से 1 term भाजपा को और एक टर्म Congress को वोट करते हैं। मतलब की अबी हिमाचल में कांग्रेस हैं तोह पिछली बार भाजपा की सरकार थीं अब देखने वाली बात ये हैं की इस बार हिमाचल के लोग किसको चुनते हैं भाजपा या कांग्रेस।
कुछ पुराने election results।
  1. 20 दिसंबर 2012 
  • Total seats          पार्टी                  जीत
  • 68                        भाजपा                26
  • 68                        कांग्रेस                 36
  • 68                       निर्दलीय                6
2. 2007
  • Total seats         पार्टी                      जीत
  • 68                        BJp                       41
  • 68                       Congress              23
  • 68                        BSP                       1       
  • 68                      independent         3
3.    2003
  • Total seats         party                 जीत
  • 68                      congress              43
  • 68                      BJP                        16
  • 68                    independent          6
  • 68             Himachal  vikas कांग्रेस  1
  • 68               lok जन shakti               1
  • 68         लोकतांत्रिक मोर्चा HP               1

जैसे की हमने पहले ही बतयब की हिमाचल के लोग वहा पर एक पार्टी को 5 साल देते है फिर किसी और पार्टी को बहुमत देते है अबी कांग्रेस की सरकार है हिमाचल में तोह क्या आने वाले 9 नवंबर के एलेक्शन्स में भाजपा को जीत दिलााये गए हिमाचल लोग येे देखने वाली बात होगी।

फाइनल words Hp Elections।


Ec ने हिमाचल की एलेक्शन्स की डेट की घोषणा कर दी
हिमाचल में वोट 9 नवंबर को डेल जायेगे और वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होंगी।
Ec ने गुजरात  के इलेक्शन के लिए कहा की गुजरात के इलेक्शन 18 दिसंबर से पहले होंगे ताकि हिमाचल और गुजरात के वोटों की गिनती एक साथ एक ही दिन हो 18 दिसंबर को ।
लेकिन गुजरात के एलेक्शन्स की डेट अबी फिक्स नहीं हुई है की कब होंगे गुजरात के इलेक्शन। उम्मीद है की 18 दिसंबर से पहले ही होंगे गुजरात election।
इस बार के election में Vvpat का इस्तेमाल भी होगा जो की बहौत अच्छा कदम है EC दुअरा VVpAT से अब आप देख सकते है की अपने जिसको वोट डाला हैं क्या उसको सच मे गया वोट या नहीं।
18 december को हिमाचल को नई सरकार मिल जाएगी।
( धारा 370 को कैसे हटा सकते हैं )


Supreme Court को Pollution सिर्फ़ दिवाली पर ही क्यों दिखता हैं Supreme Court Ban Sale of Crackers Delhi

Supreme Court Ban sale of crackers इन दिल्ली।

सुप्रीम कोर्ट ने कल अपने आदेश में कहा की दिल्ली NCR में  पटाखे 31 october 2017  तक नहीं  बेचेे जा सकते हैं सुप्रीम कोर्ट ने कहा की पिछले साल भी दिवाली की वजह से दिल्ली की हवा में तीन गुना ज़्यादा प्रदूषण पाया गया था।
Supreme-court-bans-crackers-in-delhi-ncr.jpg
PolticsGuru.com

 सवाल ये हैं की क्या  supreme Court ने जो ban लगाया हैं क्या उस से दिल्ली की हवा साफ हो जाये गी।

इस फैसले पर सोशल मीडिया में काफी चर्चा चल रही है फेसबुक ट्विटर पर काफी तीखी प्रतिक्रिय आ रही है।
सुप्रीम court ने सिर्फ पटाखे बेचने पर  ban लगाया हैं   
दिल्ली वाले पटाखे जला सकते है किसी और स्टेट से ले कर।

अब सवाल ये है की कोर्ट को सिर्फ दिवाली, होली और ,दहीहंडी, जलिकटु, पर ही क्यों याद आती है प्रदूषण ,पानी की बचत ,रंग, चोट, जानवर के साथ खेलना। etc

आज हम इस पर बात करने वाले हैं। की कोर्ट और सरकार को हमेशा दिवाली पर है प्रदूषण की याद क्यों आती है।
हुम् यह यह बिल्कुल नहीं कह रहे की पटाखे से Pollution नहीं होता हैंं। बिल्कुल होता है pollution लेकिन क्या सिर्फ दिवाली से ही पटाखे चलाने से ही ?

             ( मोदी सरकार में क्या देश की GdP काम हो रहीं हैं।)

Humne दिल्ली के pollution पर रीसर्च की टोह देखए क्या कारण है पॉल्युशन का?

  1. Diesel डीजल
  2. Old vehicles पुरानी गाड़िया
  3. Factories
  4. Generators 
  5. सबसे ज़्यादा दिल्ली की रोड से जो धूल dust उड़ती हैं सबसे ज़्यादा pollution होता हैं।
  6. मक़ानू के निर्माण से।
  7. घर से निकलने वाले धुंए
  8. Concrete बचिंग
  9. Petro Coke 
  10. और भी बहौत कारण है pollution के etc
अब सवाल ये हैं की क्या कोर्ट इन सब 
को भी ban करेगा जैसे डीजल से चलने वाली गाड़िया, डीजल से चलने वाले गेनेटर्स, तोह क्या सुप्रीम कोर्ट डीजल को भी ban करेगा।
  • Generators से भी पॉल्युशन होता है क्या कोर्ट Generators को भी ban करेगा ?
  • जो factories है उन पर भी ban लगे गा क्या?
  • जिन दुकानदार ने पटाखे खरीद के रखे थे उनका कया उनका नुकसान कौन बरे गा वो कहा जाए गए पटाखे बेचने। एक अनुमान के मुताबिक करीब 100 cr का नुकसान हो सकता है दुकानदारों का वो कौन बरे गा।
  • घरों के निर्मण से भी पॉल्युशन होता है तो क्या कोर्ट घर बनानें में भी  रोक लगेगी। etc
             और सबसे बड़ा  सवाल 
क्या सुप्रीम कोर्ट ऐसे ही बकरीद पर भी ban लगाए गा क्यों की बकरीद में भी बेजुबान जानवर को मारा जाता हैं। और महौरम पर भी जहा लोग अपने आप को चोट पाउंचाते हैं। उसका क्या????
जैसे सुप्रीम कोर्ट ने देही हांडी की ऊंचाई 20 ft decide की थी।
और होली पर पानी waste होता हैं। जलिकटु को ban करने के बाद अब हम क्या समजे की अगला नंबर बकरीद का है????

Supreme Court ban sale ऑफ crackers दिल्ली NCR 

Final words

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हमे कोई दुःख नहीं हैं लेकिन क्या सुप्रीम कोर्ट ऐसे ही फैसला किसी और तैहोर पर सुना सकता हैं।?
जो पटाखे न्यू ईयर पर फोड़े जाते है क्या उन से हवा साफ होती है?
जो क्रिसमिस पर चलाये जाते है उनका क्या।
जो ईद पर जलाये जाते है उनका क्या।
जो ईद पर कुरबानी दी जाती है बेजुबान जानवरों को मारा जाता है उसका क्या।
जो मौरहम में अपने आप को नुकसान पाउंचाते है उसके लिए कोई एक्शन ले गा सुप्रीम कोर्ट।?
जब बकरे मारे जाते है उनका waste रोड पर पड़ा रहता है उसका क्या उस से कोई प्रुदशन नही होता । जो उनकी हड्डीया रोड पर पडी रहती है उसका क्या और तोह और जो कुर्बानी पर जानवरों का खून साफ करने के लिए पानी waste होता है उसका क्या।?
अंत में जो पटाखे पाकिस्तान की जीत पर फोड़े जाते हैं उनसे कोन की oxygen निकलती हैं।??

इस आदेश के बाद हम क्या ये मान के चले की अगला नंबर बकरीद का है???


अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगे तोह शेयर और कमेंट करे।
                           धन्यवाद